Awareness and Solution for common problems, Benefits of Yoga and Pranayam.

चोट, मोच, सूजन का उपचार, पैर में मोच आने पर घरेलू उपाय

चोट, मोच, सूजन का घरेलू उपचार


अक्सर यह देखा गया है कि किसी को चोट लग जाए तो वह ध्यान नही देता जब तक की उसे दर्द ना महसूस हो लेकिन किसी को भी इसे इग्नोर नही करना चाहिए, कुछ लोग तो दर्द होने पर पर पेन किलर खा लेते है लेकिन पेन किलर कोई परमानेंट सोल्युशन नही है क्यु की अगर हड्डी की चोट का कोई प्रॉपर् ट्रीटमेंट ना किया जाए तो इस चोट का दर्द कुछ समय बाद फिर से होने लगता है और हमेशा ऐसे ही कभी कभी दर्द होता रहेगा इसलिए इसका ईलाज करना बहुत ही जरूरी है.
Aayurved मे चोट मोच का बहुत ही कारगर उपाय बताया गया है जिसमे आपको कुछ खर्च नही करना है और घर पर ही आपकी चोट मोच पूरी तरह से ठीक हो जाएगी. 
तो आइए जानते है क्या क्या उपाय हम घर बैठे कर सकते है. 
पैर में मोच
पैर में मोच

हार्ट को हेल्थी कैसे बनायें, हार्ट को स्ट्रांग बनायें , Yoga & Exercise for Healthy Heart


१- सिकायी के द्वारा (Heat 🔥 Therapy) 
सिकायी एक ऐसा उपाय है जिसे हर ब्यक्ति को चोट मोच मे करना चाहिए क्यूकि सिकायी करने से चोट की जगह पर ब्लड की clotting नही होने देता है और damage mussecles को repair करता है इसलिए चोट मोच मे हमेशा दिन मे तीन बार १०-१५ मिनट तक ४-५ दिन तक कपड़े से सिकायी करें, इससे आपको १००℅ लाभ होगा. 




सिकायी का तरीका - आग जलाकर या रूम हीटर या गैस जला ले और cotton का कपडा ले, कपड़े को आग से थोड़ा दूर कर के कपड़े को हल्का गरम होने दे और उसी कपड़े से चोट मोच वाली जगह पर सिकायी करे, कपडा ठंडा होने पर फिर से गर्म कर के फिर से सिकायी करे और यही प्रक्रिया १०-१५ मिनट तक करे। 

आप अन्य कोई heat therapy का भी प्रयोग कर सकते हैं. 

२- हल्दी और चुने के द्वारा (Turmeric & Limestone) 
२ चम्मच हल्दी और मटर के दाने के बराबर चूना एक कटोरी मे ले, उसमे थोड़ा सा पानी डाले और चम्मच की सहायता से मिला ले और पेस्ट जैसा बना कर उसे आग पर हल्का सा गुनगुना कर ले हल्दी चुने का पेस्ट को सिर्फ हल्का गुनगुना गरम ही चोट मोच की जगह पर लेप करे. 
अगर चोट कम लगी हो तो ५ दिन तक लेप लगाए और चोट मोच जादा हो तो ८-१० दिन तक लेप लगाए. 
Tturmeric
हल्दी

हल्दी
हल्दी



आज कल कोई भी हो थोड़ा कुछ भी हो जाने पर तुरंत गोली खाना पसंद करता है पर उसको allopathic दवाई के नुकसान के बारे मे नही पता होता है इसलिए लोग fast relief के चक्कर मे आसानी से allopathic दवाई का  सेवन कर लेते है इसलिए हमारा सुझाव यह है कि बहुत मजबूरी मे ही allopathic दवाई का सेवन करे. 






Share:

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें

Thanks for your comment, if you have any quarry feel free to ask me.

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

About

Awareness and Solution for common problems, Benefits of Yoga and Pranayam.

Theme Support